Monday, 5 June 2017

भारत पाक मैच

मैं  एक  आम  भारतीय  जिसे अपने देश की आन बान  शान  सबसे प्यार है भारत की मिटटी की गंध सा रे विदेशी पर्फ्युमों  से बढ़कर है।  पर एक बात मैं  नहीं समझ पी  सेना के जवान शहीद हो रहे हैं  पाकिस्तान कुटिल घाट कर रहा है हमारे देश ने सर्जिकल स्ट्राइक की जिसने हमारा और हम से ऊपर हमारे जवानो मैं  यह भावना आई होगी कि देश हमारे साथ है हमारे सेनिकों के साथ है देश का बच्चा बच्चा रोता है यदि एक भी गोली पाकिस्तानी चलते है नेताओं की वजह से हमारे कश्मीर की यह हालत हो गई अ जिन्दगी  पर चल रही है शोक के बीच भी
मैं असली बात पर आती हूँ  यह बात उठाई गई कि क्रिकेट  पकिस्तान के साथ नहीं खेला जाना चाहिए  पर मैं तो सोचती हूँ पाकिस्तान को हर क्षेत्र मैं  हराना चाहिए उसकी औकात दिखानी चैये  हर गेंद पर मैं तो एक पाकिस्तानी को पिटते सोच रही थी एक विकेट गिरता  मेरे ख्याल मैं एक उनका शिविर  गिरता। हेर तरफ से उस्कमनोबल गिरना जरूरी है  भारत पकिस्तान मैच  मनोरंजन नहीं अपने देश का मान है  उसे भारत के लोग इसी लिए देखते हैं वैसे तो पाकिस्तानियों को हारते देख नहीं पते पर जब एक एक चेहरे पर लटकन देखते हैं तो बहुत अच्छा  लगता है
सर्जिकल स्ट्राइक पर हर असली नागरिक की आंख मैं चमक आई थी  सवाल तो पकिस्तान के पिठु ओं  ने उठाये थे देश के नागरिकों ने गर्व से सर उठाये थे क्रिकेट पर जसं  तो जरा देर का जोश है और क्यों नहीं होना चाहिए  यह भी देश का ही मान है  

Thursday, 1 June 2017

ठण्ड रख

fojkaks/hh ikVhZ dk O;fDr eSnku esa Hkk’k.k ns jgk Fkk]^ lÙkk ia{k ls iwNks D;k cnyk ns”k esa D;k cnyk dqN ugha cnyk u Hkz’Vkpkj [kRe gqvk u dkyk /ku vk;k u turk dks iUnzg yk[k feys A
^uk; cnykS uk; cnykS dj jgkS gS eSa dc ls dg jgh gWwa esjks p”ek VwV x;kS gS cnyok nS rkS rks rS uk; cnyok;ks tk;*
vEek le; rkS feyS cnyok nwaxkS tjk BaM j[k] ,d ne ekSa lS fudyS h vkSj dke gS tk; ,SlkS uk; gks; cnyok nWwackS *


हसना मना है

tc ge gal iM+s
xehZ ds fnu Fks] ifjokj esa “kknh Fkh fnu Hkj ds oSokfgd dk;ZØekas ds ckn lc HkkbZ cgu o vU; ifjokjh tu Hkkjh Hkjde diM+ksa dks cnydj ,d dejs esa ?ksjk cukdj cSBs ckr dj jgs FksA ge HkkbZ cguksa dks ckr ckr ij galus dh cgqr vknr gS A rHkh esjh cgu dh uun njokts ij vkdj [kM+h gqbZaA ;|fi os lqanj Fkh A lkQ jax xksy xksy ukd uD”k ijUrq “kjhj Hkh ,dne xksy Fkk lkFk gh <hyk xkmu FkkA gksVksa ij yky fyfifLVd  ds fu”kku vHkh ckdh Fks dkty yxkrh Fkha] vkWa[ks cM+h Fkha QSys dkty ls vkSj cM+h yx jgh Fkhaa A dVs ckyksa dks iyV dj ihNs ls fiu yxk fy;k Fkk A os ia[ks dh rjg IkhNs [kM+s gks x;s FksA djhc djhc iwjk njoktk f/kj lk x;k FkkA lcdh ,d nwljs ls utj feyh lkFk Hkh gksaB Hkh dl x;s A lc viuh galh jksdus dh dksf”k”k dj jgs Fks esjh NksVh Hkrhth mUgsa ns[kdj bZ bZ bZ ph[kh] EkSaus mldk eqWag can fd;k A tSls rSls lc galh ij dkcw fd;s cSBs Fks A os cSB xbZaA vf/kdka”k frjNh utj ls ,d nwljs dk eWqag ns[kdj uhps eqWag dj gal jgs Fks fd cM+s HkkbZ cksys ]^ gkWa rks ckr dgkWa Fkh oks Hkhe dh py jgh Fkh u fd mlus Hkh dbZ fookg fd;s ] ,d fgfMEck ls fd;k Fkk A vc rks galh jksduk eqf”dy gks x;k vkSj lc yksViksV gks x;s ij oks cspkjh le> ugha ik jgha Fkh fd blesa bruk galus dh D;k ckr gS \


Monday, 29 May 2017

प्रार्थना

vf/kdrj tc O;fDr gkjus yxrk gS mls va/kdkje; txr esa dksbZ jkg ugha lw>rh rc og ml “kfDr”kkyh dh “kj.k esa tkrk gS izkFkZuk dk :Ik ;k ek?;e dqN Hkh gks ml “kfDr dh Lohd`fr gesa ruko jfgr djrh gS A gesa yxus yxrk gS og lp gh lgkjk nsus ds fy;s gkFk c<+k jgk gS A
gj lqcg dqN nsj  dks viuh ckWag LoxZ dh f[kM+dh dh pkS[kV ij fVdk dj vius Hkxoku~ dks ns[kks A

ân; ml fnO; n”kZu dh >yd fy;s fny dk lkeuk djus dh rkdr cVksj yks A

Friday, 14 April 2017

जाति से नफ़रत न करें

योगी जी का  एक खाना बनानेवाला मुस्लमान है इस पर आज सवाल  उठे।  वैसे उस मैं कही कोई तथ्य नहीं था पर मुसलमान  एक धर्म है और जो व्यक्ति देश मैं किसी भी पद पर है चाहे नेता हो या सरकारी  ऑफिसर उन्हें जातिगत भेद भाव करने का अधिकार नहीं मिल जाता है  अगर रसोइया मुसलमान होता तो यह उनका बद्दप्पन होता  हम उसके हाथ का क्यों नहीं खा सकते विचारों से नफरत होनी चाहिए व्यक्ति से नहीं जो देश के विरोध मैं बात करते हैं वे अस्पृश्य  हैं न कि  जाती से ये मत भूलो कि भाजपा की जीत मैं मुसलमान महिलाओं का बहुत  बड़ा हाथ है रही मीट खाने की बात तो आज शाकाहारी बहुत काम ही हैं  ब्राह्मण तो दबा के मीट खाते  हैं।  एक नेता जी विदेश गए वहां वे गे का मीट खा रहे थे किसी ने टोका नेताजी ये क्या भारत मैं तो  आंदोलन चल रहा है गाय पूज्य है और आप ? तो नेताजी बोले  "ये विदेशी गाय  है भारत की नहीं " यह ही हमारा दोहरे मानदंड हैं। 

Tuesday, 11 April 2017

सजा किसको

आज समाचार मैं प्रमुख खबर थी कि  एम्बुलेंस को रास्ता न देना भारी पड़  सकता है।  मानवीयता के नाते यह परम आवश्यक है हम एम्बुलेंस को रास्ता  दें क्योंकि उस के अंदर मरीज अधिकतर  गहन चिकित्सा के लिए शीघ्रता से ले जाया जाने वाला होता है एक एक पल की उसे जरूरत होतीहै न जाने किस एक पल की कमी की  वजह से उसकी सांस डोर  टूट जाये न जाने किस का सुहाग उजाड़ जाये किस का लाल खो जाये या किसके पिता का प्यार  चला जाये और बच्चे अनाथ हो जाएँ  .  लेकिन  यह भी आवश्यक है कि  एम्बुलेंस मैं मरीज ही हो  न कि  बस अड्डे  से स्टेशन  से लायी  सवारी हो  अस्पताल वालों के रिश्तेदार इधर से इधर जाने के लिए सवारी के रूप मैं जाते है उसे गाड़ी की तरह प्रयोग लेकर  हूटर बजा रास्ता साफ़ करवा कर पीछे वालों को चिढ़ाते भाग जाते हैं  भारत मैं सुविधाओं का दुरूपयोग पहले होने लगता है ा
जैम  मैं फंसी  एम्बुलेंस लाख हूटर बजले  कूद कर या उड़ कर तो जाएगी नहीं  तब किस को सजा होगी एम्बुलेंस के आगे वाली गाड़ी  या जाम  के सबसे आगे वाली गाड़ी या अड़े टेड़े खड़े सड़क के वाहनों पर  या बीच सड़क पर रुक कर बात करने वालों पर या किसी की भी लापरवाही हो चाहे स्वयं तेज गाड़ी चला कर मरने फिर उसके रिश्तेदार  रास्ता रोक देते है और तब न जाने कितने बच्चे  एग्जाम देने से रह जाते है कितने मरीज डैम तोड़ देते है और कितनो की ट्रैन निकल जाती है तब किसको सजा होगी 

Tuesday, 4 April 2017

जो पूज्य है

ftls iwtk tkrk gS 'kk;n balku dh fQrjr gh gS fd og mlls gh lcls T;knk uQjr djrk gS blfy;s mldk fo/oal dj nsrk gSA xaxk ;equk dks iwT; cuk;k D;ksafd thou j{kd gSa ty gh thou gS mls LoPN j[kuk balku dk drZO; gS u vkt ls chl iPphl o’kZ iwoZ ufn;ksa esa lkcqu ls ugkuk Hkh fuf’k) Fkk Qwy p<+k;s tkrs Fks vkSj ?kkV j{kdksa dk drZO; Fkk lkjs Qwyksa dks lM+us ls igys ikuh esa ls fudky ysA dNqvksa dh eNfy;ksa dh es<+dksa dh Hkjekj jgrh FkhaA tks gj oLrq dks [kk tkrs gSA NksVs cPps ds 'ko vo”; cgk;s tkrs Fks ij os rqjUr typjksa }kjk xM+i dj fy;s tkrs FksA Luku ?kkV fu;r jgrk Fkk vU; ?kkV ij ugkuk fuf’k) jgrk Fkk vkSj dNqvksa dh iwjh Vksyh mlh ?kkV ij jgrh Fkh ysfdu ufn;ksa ls dNq, gVk fn;s x;s balku vklkuh ls Luku dj ys ysfdu balku dh vDy gh ikuh esa pyh xbZ mlus lokZ= Luku 'kq: dj fn;k igys diM+s /kks;s fQj ?kjksa dk dwM+k cgkuk 'kq: fd;k vkSj vc jlk;u ;qDr tgjhyk dwM+k cgkus yxsA unh u gks xbZ dpM+s dk fMCckA D;ksafd og iwT; gS gekjh j{kk djrh gS blfy;s mldh j{kk gekjk drZO; ugh gS tc og gekjh j{kd gS rks viuh j{kk ugh dj ldrhA

blfy;s cM+s cM+s x.kifr nsoh Lo:i cukrs gSa mUgsa izfrfBr djrs gSaA izfrfBr djus dk vFkZ gS ewfrZ esa Lo;a bZ”oj vkdj cSB x;k cl gks xbZ iwtk pyks fudyks ?kj ls vkSj /kS xaxk th esa /kS tequk th es cl bruh gh vkLFkk gS vkxs Mwc ejks pqYyw Hkj ikuh esaA vc ;g vyx ckr gS iDds lhesaV ls cuk;s tgjhys pednkj jlk;u yxk;s vkSj gksM+k gksM+ esa Å¡psa vkSj Å¡ps cuk;s euks Vuksa Qwy p<+k;s vc lM+ks ikuh esa vkSj ikuh Hkh dkSu lk ogh ftls mUgsa ihuk gS fQj vc nks’kh dkSu ljdkj nks’khA ljdkj jksd nsrh gS rks vkLFkk ij xgjh pksV gS u tkus D;k dgj VwVsxk blfy;s ljdkj nks’kh gS vkSj filh dkSu unh tks balku  mlds ty dks  ihdj ftank jgs blfy;s brus Åij ls nkSM+dj vk jgh gSA