Thursday, 29 September 2016

भारतीय संस्क्रति


 भारतीय संस्कृति में जीवन में सोलह संस्कार मनाये जाते हैं अर्थात सोलह बार परिवारीजन उसको होने का एहसास और वे हैं उसके लिये अभिव्यक्त करते रहते हैं कि आप हमारे हैं । भरतीय संसक्ृति में उत्सव त्यौहार और संस्कार सबका नियमन केवल पारिवारिक रिश्तों को एक दूसरे को जोड़े रक्षने के लिये हैं और इसमें विवाह सर्वाघिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह जीवन का एक ऐसा मोड़ है जहॉं जिन्दगी बदल जाती है नये जीवन का आरम्भ होता है इसके लिये जन्मदाता भी अपने जीवन की संचित पूंजी न्यौछावर कर देते हैं
एक पुत्री का पिता धन जोड़ता है कि बेटी को अच्छे सुपात्र को सौंपे और सुखमय जीवन हो इसके निये अपनी निधि अर्पण करता है मॉं भी बेटी के लिये जोड़ जोछ़कर रखती है । अगर नये गहने न गड़वा सके तो अपने गहने देदेती है और अपने खाली होने पर भी उसे संतोष रहता है कि बेटी को दिये ।यदि बेटी का पिता समर्थ है जो करोड़ों रूपये  विवाह में खर्च करता है । शाही खर्च कि दुनिया देखे कि कैसा विवाह किया है । लड़के वाला भी अपना वैभव दिखाने के लिये खर्च करता हैलेकिन जब करोड़ों फूंक कर कुछ ही दिन में बेटी वापस आजाती है और एक वाक्य बोल देती है कि मैं नहीं रह सकती ।या तब भी वर पक्ष असन्तुष्ट हे और दो प्राणी नयी जिन्दगी के लिये एक पथ पर जाने की जगह दो अलग अलग पथ पर चल पढ़ते हैं तो सर्वाधिक नुकसान किसका होता है । 

Thursday, 22 September 2016

मुआवजा


izfrfnu u tkus fdrus gknls gksrs gSaA mu gknlksa dk eqvkotk ljdkj nsrh gSA vPNk gS de ls de yksxksa dks ;g fnyklk rks jgrh gS fd vxj gknls esa cki ejk rks dqN rks fey gh tk;sxkA tgk¡ rd eqvkotk dk “kkfBd vFkZ gS {kfriwfrZ fo”ks"k O;k[;k djs rks ;fn fdlh O;fDr }kjk fdlh vU; dk dksbZ uqdlku gks tk;sA bldh {kfriwfrZ fdlh izdkj djrk gSA og eqvkotk gqvkA Vªsu rks ljdkj }kjk lapkfyr gSA HkwdEi vkink gSA ftlesa HkwdEi ihfM+r dks lgk;rk feys ij tgjhyh “kjkc ihdj ejus okys ds ?kj okyksa dks Hkh eqvkotk feys u “kjkc ljdkj us cukbZ u fiykbZ csoM+ksa ds ?kj okys izlUu fd ihih dj tku gydku fd;s FksA ?kj fcd x;k crZu fcd x;k pyks ej x;k rks olwy lcA
       D;k ftEesnkjh ml {ks= ds vf/kdkfj;ksa dh ugh gksrh gS fd dSls “kjkc cu jgh Fkh A olwyh ds fy;s nwj njkt dksus esa igq¡p tk;sxsaA ysfdu jksdus ds fy;s ughA nafMr vcdkjh foHkkx ds yksx gksus pkfg;sA ihus okys “kjkc ihdj fdldk Hkyk dj jgs FksA blls rks “kk;n ?kj okys <aw< <w<dj ihus okyksa dks ihus Hkstsxsa vkSj “kjkc esa tgj feyk;sxsA

       gj ckr dh ftEesnkjh ljdkj dh eku yh tkrh gSa blhfy;s ukxfjd viuk drZO; Hkwydj ljdkj ds drZO; gh <w<rs jgrs gSaA mldh dfe;k¡ gh fxukrs jgrs gSaA vxj vius drZO; gh dsoy fuckgrs jgs rks cgqr vklku ftUnxh gks tk;sA 

Wednesday, 21 September 2016

इंतजाम हो जायेगा


ehfM;k eas izeq[k [kcj Fkh fd lQkbZ deZpkjh in ds fy;s ch ,] ,e , fMxzh/kkjd O;fDr;ksa us Hkh vthZ nh Fkh D;k djsaA cPpksa dk isV ikyuk gS dqN dke rks djuk gh gSA ukSdfj;k¡ ugh gSaA vU; ukSdfj;ksa ds fy;s ik¡p ik¡p] N% N% yk[k ekaxrs gSaA dgk¡ ls yk,sa ijUrq lp ;g gS dksbZ Hkh ljdkjh ukSdjh gksA fudEes yksxksa dh ykbu yx tk;sxhA D;kasfd mUgsa ekyqe gS dke djuk ugh gS ejus rd bartke gks tk;sxkA chp esa ejs rks cPpksa dks lgt ukSdjh dksbZ ekbZ dk yky fudky ugh ldrkA

       oSls Hkh lqcg lqcg lQkbZ Bsdsnkjksa ds ;gk¡ igq¡p tkvksA lyke Bksddj iSlksa dh tqgkj yxkdj gkftjh yx tk;sxh lM+d ij dw<+k rks gksrk gh jgrk gSA mBkus dks fy;s Hkxoku~ us gok cukbZ gS vkSj ets ls nwljh txg dke djrs jgsxsA 

Tuesday, 20 September 2016

लापरवाह हैं हम


       phu ges”kk ls uohu vkfo"dkjksa ,oe~ vnwHkqr fuekZ.kksa fodkl ds dk;ksZ ds fy;s izfl} gSA vxj pkbuk ds lkeku ds fy;s mldkj etkd mM+k;k tkrk gSA ysfdu ge lLrk vkSj lqanj ns[krs gSaA fVdkÅ ugh blfy;s phu ge yksxksa ds fy;s oSlk gh eky cukdj Hkstrs gSaA gekjh vknr gS ped ned jax:i ns[krs gSa DokfyVh ugh fdlh Hkh {ks= esa ns[k yhft;s tks vPNk gS og /kdsy dj ihNs dj fn;k tk;sxkA ogha pysxk tks ?kfV;k gS pkgs fons”kh gh D;ksa u gksA


       mldk ,d ohfM;ksa ns[kk ftlesa ,d mPp vf/kdkjh Hkjh lHkk esa ykijokg v/khuLFk deZpkfj;ksa dh NM+h ls fiVkbZ dj jgk gSA ;|fi ;g vekuoh; ÑR;  rks gS gh lkFk gh viekutud Hkh ij rjDdh dh jkg Hkh ;gh curk gS ugh rks gekjs ;gk¡ dh rjg dqlhZ ij Å?krsa jgsxs ij dke ugh djsxsA rc dSls ns”k fodkl dj ik;sxkA 

Sunday, 18 September 2016

ख़ुशी

[kq”kh dh dbZ ifjHkk"kk,sa gSaA dksbZ nsdj [kq”k gksrk gSa rks dksbZ Nhudj dksbZ lEiUurk dk iznZ”ku djds [kq”k gksrk gS rks dksbZ lknxh esa gh [kq”k jgrk gSA [kq”kh dh tSlh ifjHkk"kk gekjs fnekx esa gS t:jh ugh [kq”kh mlh :i esa gekjs lkeus vk;s xaEHkhj :i ls chekj nks O;fDr vLirky ds ,d gh dejs esa lkFk lkFk HkrhZ FksA muesa ls ,d dks QsaQM+ks ls ikuh fudkyus ds fy;s fnu esa ,d ?kaVk cSBus dh btktr FkhA mldk iyax f[kM+dh ds ikl FkkA tcfd nwljk iwjs fnu isV ds lgkjs ysVk jgrk FkkA os nksuksa iRuh] ifjokj] ?kj] ukSdjh] lsuk esa viuk lg;ksx vkSj NqfÍ;ksa ds ckjs esa ckrsa djrs FksA f[kM+dh ds ikl okyk O;fDr gj nksigj vius lkFkh ds fy;s ckgj ds n`”;ksa dk o.kZu fd;k djrk FkkA nwljk ckgjh nqfu;k dh xfrfof/k;k¡ vkSj jaxks dh ckrsa lqudj viuh vk¡[ks can djds mu n`”;ksa dh dYiuk djrk FkkA ,d nksigj tc f[kMdh ds ikl okyk O;fDr ckgj ls xqtjus okyh ijsM dk o.kZu dj jgk Fkk rks nwljs ds fnekx esa [;ky vk;k fd ,slk D;ksa gS fd vdsyk ;gh lc dqN ns[kdj [kq”k gksrk gS vkSj eSa dqN ugh ns[k ldrkA fnu xqtjrs x;sA ,d jkr f[kM+dh ds ikl okys O;fDr dh rfc;r cgqr fcxM+h oks enn ds fy;s fpYyk jgk Fkk mlus ls enn djus dh dksbZ dksf”k”k ugh dhA ik¡p feuV ckn “kk¡fr gks xbZA mldh e`R;q gks pqdh FkhA lqcg tc ulZ vkbZ rks mldk e`r “kjhj ikdj nq[kh gqbZA nwljs O;fDr us vc viuk iyax f[kM+dh ds ikl yxk nsus dks dgkA ulZ us mls f[kM+dh ds ikl f[kldk fn;kA mlds tkus ds ckn nnZ ds lkFk /khjs /khjs dksguh dk lgkjk ysdj og O;fDr [kqn dks mBkus dh dksf”k”k djus yxkA oks cgqr [k”kh eglwl dj jgk Fkk fd vc oks mu n`”;ksa dk etk ys ldsxkA mlus n`”; ns[kus ds fy;s f[kM+dh ls ckgj ns[kk rks lkeus flQZ ,d nhokj FkhA


Saturday, 17 September 2016

रिश्वत


       bZekunkjh thfor gS ;g v[kckjksa dh lqf[kZ;ka curk gSA vFkkZr~ bZekunkjh dQu nQu gks pqdh gSA okLro ess ftudh vkRek Hkjh ugh gS tks vPNk dke djuk pkgrs gSA mUgsa tcjnLrh ekjk tkrk gSA vxj vki fglkc fdrkc lgh j[k dj vkfn pqdk dj Vsa”ku Ýh jguk pkgrs gSaA de [kkysxsa xe [kkysxsaA ijUrq dels de tatky ls eqDr rks jgsxsa ij ;g eqefdu ugh gSA vki dks O;kikj can djuk iM+ ldrk gSA ;fn vkRek dks fdlh lanwd esa can ugh fd;k rks ugh rks gj fnekx dk deZpkjh ;g dg dj vkids flj lokj jgsxkA eq>s nks eq>s ugh ekyqe dSls nksxsA gk¡ rqEgkjk dke lkQ lqFkjk gSA dgha dksbZ csbZekuh ugh gS ij esjs cka;s gkFk dk [ksy gS rqEgsa Qalkus dk dksbZ Hkh Dyw yxk nwaxkA yxkrs jguk pDdj ;g gS Hkkjr dh uhfr ;gk¡ ds vf/kdkfj;ksa dh uhfr fcuk fj”or mUgsa [kkuk gte gh ugh gksrk gSA


Thursday, 15 September 2016

सरकारी दफ्रर मैं चक्कर लगते रहिये

,d cSad es [kkrk Fkk tks ?kj ds ikl Fkh ysfdu cSad dh txg esa vikVZesaV cus cSad nwj pyh xbZ A ik¡p fdyksehVj nwj ,d uke [kkrs esa cnyokuk FkkA mlds fy;s pkj pDdj yxk fy;s ij iwjh rjg ls ;g dksbZ ugh crk ik;k fd D;k djus ls uke cnysxkA e`r ifjtu dk e`R;q izek.k i= igys rks rhu eghus esa og Hkh 400 :Œ nsdj cuk ugh rks vktdy vktdy Vyrk jgkA fQj cSad okys dHkh dg nsrs iwjk QkeZ Hkjk tk;sxkA QkeZ Hkj dj ys x;s rks dg fn;k ughA cl ftldk uke Myuk gS mls ys vkvksA mldh QksVks vk/kkj dkMZ ys vkvksA og ysdj x;s rks fQj dg fn;k ugh dsoy nLrk[kr lkeus gksaxs nwljk QkeZ Hkjk tk;sxkA vkSj pkSFkh ckj ogk¡ ij fctyh ugh Fkh buoZVj esa [kkyh ia[ks esa cSBs Å¡?k jgs FksA brhu xehZ esa ns[k jgs gks ;g ilhuk cg jgk gS dSls dke djsA
       nwljh ckr dEI;wVj ugh py jgs gSaA nwj nwj ls dqN efgyk,sa cpr ds iSls tek djus fjD”ks esa p<+dj vkbZ FkhA os nq[kh Fkh 50 :i;s bRrs vkSj 50 :Œ fcRrs yxsaxs tks :i;k tek uk; dj jgs gSaA ,d ugh dbZ yksx NksVs NksVs Hkqxrku ds fy;s cSBs Fks vkSj vanj dqlhZ NksM+dj dksbZ ckgj [kM+k FkkA dksbZ dqlhZ ls xk;c Fkk tSls lnk ls gh dEI;wVj ls gh dke fd;k gksA vkSj rjg ls dke djuk tkurs gh ughA tc euq"; vkjke pkgrk gS rks dEI;wVj D;ksa ugh og Hkh viuk loZj Mkmu djds cSB tkrk gSA vkjke ls yxkrs jgs gks pDdj -------------pDdj dk viuk pDdj gSA


Wednesday, 14 September 2016

ये कैसी राष्ट्रभक्ति

,e , ch , dh fMxjh oSls rks vc dkxt dk VqdM+k ek= gS irk ugh ch ,M t:jh gksrk gS fdlh Hkh Ldwyh f”k{kk ds fy;s fQj dSls ge ,sls f”k{kdksa ls nks pkj gksrs gSaA tks lgh ls beyk Hkh ugh fy[k ikrs gSa vkSj vkBoh lkroh dks i<+k jgs gksrs gSaA fdl izdkj dh f”k{kk ge vius cPpksa dks nsdj mudk Hkfo"; cuk jgs gSaA f”k{kk ds {ks= dks Hkh jktuhfr dk eSnku cuk fy;k gSA ns”k dks iru dh vksj ys tkus okys os gh gSa tks ns”k dh mUufr dh ckr dj oksV dh jktuhfr djrs gSa vkSj ns”k dks xrZ esa Mky jgs gSaA

       dksVk dks gj {ks= esa c<+kok nsdj izfrHkk dk uk”k dj jgs gSaA izfrHkk ds fy;s fdlh Hkh oxZ tkfr ds ugh jksduk pkfg;s mls Åij ykus dk gj leqnz iz;kl djuk pkfg;s ijUrq mPp oxZ dk gS blfy;s mls ge mBus u nsa ;g uhfr ns”k ds fy;s cgqr gh gkfudkjd gSA usrk ns”k fgr ugh viuh dqlhZ ds fy;s lksprs gSaA D;k ge bls jk"VªHkfDr dgxsA 

Tuesday, 13 September 2016

देश के लिए सोचना हितकर है

,e , ch , dh fMxjh oSls rks vc dkxt dk VqdM+k ek= gS irk ugh ch ,M t:jh gksrk gS fdlh Hkh Ldwyh f”k{kk ds fy;s fQj dSls ge ,sls f”k{kdksa ls nks pkj gksrs gSaA tks lgh ls beyk Hkh ugh fy[k ikrs gSa vkSj vkBoh lkroh dks i<+k jgs gksrs gSaA fdl izdkj dh f”k{kk ge vius cPpksa dks nsdj mudk Hkfo"; cuk jgs gSaA f”k{kk ds {ks= dks Hkh jktuhfr dk eSnku cuk fy;k gSA ns”k dks iru dh vksj ys tkus okys os gh gSa tks ns”k dh mUufr dh ckr dj oksV dh jktuhfr djrs gSa vkSj ns”k dks xrZ esa Mky jgs gSaA
       dksVk dks gj {ks= esa c<+kok nsdj izfrHkk dk uk”k dj jgs gSaA izfrHkk ds fy;s fdlh Hkh oxZ tkfr ds ugh jksduk pkfg;s mls Åij ykus dk gj leqnz iz;kl djuk pkfg;s ijUrq mPp oxZ dk gS blfy;s mls ge mBus u nsa ;g uhfr ns”k ds fy;s cgqr gh gkfudkjd gSA usrk ns”k fgr ugh viuh dqlhZ ds fy;s lksprs gSaA D;k ge bls jk"VªHkfDr dgxsA


Monday, 12 September 2016

सबे काम सरकार का


izfrfnu u tkus fdrus gknls gksrs gSaA mu gknlksa dk eqvkotk ljdkj nsrh gSA vPNk gS de ls de yksxksa dks ;g fnyklk rks jgrh gS fd vxj gknls esa cki ejk rks dqN rks fey gh tk;sxkA tgk¡ rd eqvkotk dk “kkfBd vFkZ gS {kfriwfrZ fo”ks"k O;k[;k djs rks ;fn fdlh O;fDr }kjk fdlh vU; dk dksbZ uqdlku gks tk;sA bldh {kfriwfrZ fdlh izdkj djrk gSA og eqvkotk gqvkA Vªsu rks ljdkj }kjk lapkfyr gSA HkwdEi vkink gSA ftlesa HkwdEi ihfM+r dks lgk;rk feys ij tgjhyh “kjkc ihdj ejus okys ds ?kj okyksa dks Hkh eqvkotk feys u “kjkc ljdkj us cukbZ u fiykbZ csoM+ksa ds ?kj okys izlUu fd ihih dj tku gydku fd;s FksA ?kj fcd x;k crZu fcd x;k pyks ej x;k rks olwy lcA
       D;k ftEesnkjh ml {ks= ds vf/kdkfj;ksa dh ugh gksrh gS fd dSls “kjkc cu jgh Fkh A olwyh ds fy;s nwj njkt dksus esa igq¡p tk;sxsaA ysfdu jksdus ds fy;s ughA nafMr vcdkjh foHkkx ds yksx gksus pkfg;sA ihus okys “kjkc ihdj fdldk Hkyk dj jgs FksA blls rks “kk;n ?kj okys <aw< <w<dj ihus okyksa dks ihus Hkstsxsa vkSj “kjkc esa tgj feyk;sxsA
       gj ckr dh ftEesnkjh ljdkj dh eku yh tkrh gSa blhfy;s ukxfjd viuk drZO; Hkwydj ljdkj ds drZO; gh <w<rs jgrs gSaA mldh dfe;k¡ gh fxukrs jgrs gSaA vxj vius drZO; gh dsoy fuckgrs jgs rks cgqr vklku ftUnxh gks tk;sA


Friday, 9 September 2016

सरकारी योजनायें

ljdkj ns”k fgr ds fy;s xjhcksa ds fy;s vukFkksa ds fy;s cPpksa ds fy;s mUufr fodkl vkfFkZd lgk;rk djus ds fy;s cM+h cM+h ;kstuk,sa cukrh gS vkSj mUgsa ykxw djrh gS tSls gh fdlh Hkh ;kstuk dh ?kks"k.kk gksrh gS mlls lacfU/kr vf/kdkfj;ksa dh cu vkrh gSA os izlUu gks vius fgLls ds fy;s ckr djrs gSa vuqnku feysxk vkSj lcds fy;s igys Åij dk ns tkvksA ;fn vukFkkJe ds fy;s vuqnku fn;k tk;sxk igys rks le; ij ugh vk;sxkA vc tks vukFk jg jgs gSa mUgsa vki D;k f[kyk;saxs vkSj mu ij D;k [kpZ djsxsaA ljdkj ns jgh gS ;fn lkr :i;k izfr O;fDr rks mlesa ls mls vkcafVr djus okyk vk/kk j[k ysxk vkSj var rd vkrs vkrs 25 izfr”kr cprk gS ml ij dksbZ fujh{kd vkdj dksbZ deh crkdj /kedh ns tk;sxk rks ,slh ;kstukvksa dk D;k ykHk ;fn ;kstuk uk gh cusA rc “kk;n vPNk gksA vc ljdkjh deZpkfj;ksa dk tehj ej pqdk gSA os yk”k ds dQu ij ls Hkh VqdM+k QkM+ dj cfu;ku cuk dj iguus esa xqjst ugh djsxsaA ,d vukFk dh ,d ekg dh jksVh fdlh ik¡p flrkjk gksVy esa tkdj  [kpZ dj vk;saxs muds eu esa ,d ckj Hkh ;g ugh vk;sxk fd mUgksus fdlh Hkw[ks dh jksVh Nhuh gSA 

Wednesday, 7 September 2016

कबाड़

dqN lky igys rd cM+s cM+s ?kj gksrs Fks vkSj nqNÙkh dksBkj u dke vkus okyh oLrqvksa ds fy;s gksrk Fkk og bruk Hkj tkrk Fkk fd t:jr ij pht ugh feyrh FkhA var eas og ,d ih<+h ckn dckM+ cu dj fcdrk FkkA rc dHkh dHkh uk;kc oLrq,sa fudyrh FkhA
       MkŒ jk/kk ds nknk th dHkh vaxzstksa ds le; iz”kklu esa fu;qDr jgs muds le; iqjkuk ?kj Bhd gksus esa cgqr lk lkeku ,d dksBjh esa can dj fn;k x;kA tks ml le; ds fglkc ls lkekU; oLrq,sa FkhA Qwynku] dk¡p dh IysV] [kkus dh IysV] iqjkuh fpfB;ka phuh feÍh ds crZu] mUgsa nkor nsus dk “kkSd FkkA rFkk uQklr okys Hkh Fks dqN lQsn IysaVsa tks u pk¡nh dh Fkh u fxyV dh ysfdu tc og lkeku fudkyk x;k rks vkt ds fglkc ls uk;kc FkhA Qwynku o phuh feÍh ds crZu fof”k"V Cyw ikWVjh FkhA r”rfj;ksa ij uhps fy[kk FkkA foDVksfj;k ds izFke Hkkst ds fy;s fufeZr] fpfÎ;ksa ij iqjkuh fVfdV Fkh rFkk dqN egRoiw.kZ O;fDr;ksa }kjk izsf’kr i= FksA LVwyksa ij /kwy teh Fkh mUgsa lkQ fd;k x;k rks vn~Hkwr uDdk”kh ds LVwy FksA mu yksxksa dks yxk fd tSls [ktkuk fey x;k gSA
       t; y{eh us ,d iqjkuh gosyh [kjhnh mlds rg[kkus esa dckM+ iM+k Fkka dqN vkyekfj;ksa esa lkeku Fkk “kk;n ogk¡ ij vkus ds fglkc ls NksM+k Fkk ij u vk lds tks NksM+k Fkk tkrs le; lcls csdkj lkeku FkkA ysfdu t; y{eh us vkyekjh [kksyh iqjkuh iqLrdksa dk laxzg Fkk /kkfeZd xzUFk Fks] ik.Mqfyfi;k¡ Fkh] mnwZ dh iqLrdksa dk laxzg FkkA vjch Hkk"kk dh iqLrdaas Fkh ftUgsa t; y{eh ugh le> ldrh FkhA mlus jk"Vªh; vfHkys[kkxkj fnYyh ls laidZ dj  lkSai fn;k mUgksaus mUgsa vueksy crk;kA
       ogh uhps rg[kkus esa cku ds iyax iqjkus lksQk] dqlhZ vkfn iM+h FkhA ftl /kwy /kwflfjr dV odZ ds lksQs dks mlus fn;k mldh iqjkuh oLrqvksa ds cktkj esa dherh ,d yk[k FkhA ,d >Vdk mls vkSj feyk ftl dkB&dokM+ dks cspk mlds iayx dh ,d ikVh dksus esa [kM+h jg xbZ tc mls mBk;k rks Hkkjh lh yxh ns[kk og ikVh pk¡nh dh FkhA t; y{eh gk gk djds jg xbZA gosyh dk fo”kky njoktk gh vyE; FkkA nksuksa njoktksa ij nks ewfrZ;ka mdsjh gqbZ FkhA lkFk gh dey pØ gkFkh vkfn dh vkd`fr;k¡ cuh FkhA
       ysfdu esjk mís”; rks ;g gS fd vc ¶ySV laLÑfr tksj ys jgh gSA u LFkku gS u tksM+us dh vknr u;k vk;k iqjkus dks Qsadksa uhfr gS rFkk okLrq “kkL= ds fglkc ls Hkh vuqi;ksxh oLrq,sa udkjkRed izHkko Mkyrh gSaA


Tuesday, 6 September 2016

बेटी पढाओ

एक ऐड  टीवी पर आता  है बेटी शिक्षित करो जिसमे बेटी अंग्रेजी सिखाती है और बाप अटक अटक कर अंग्रेजी बोलना सीख जाता है बेटी ने अंग्रेजी पढ़ ली और वह शिक्षित मान ली गई अर्थात केवल अंग्रेजी बोलना ही शिक्षा प्राप्त करना है और कुछ न सीखने की जरूरत है न पढने की क्या शिक्षा प्राप्त करने का यही मानदंड है क्या यह नहीं दिखाया जा सकता की पढ़ लिख कर अपने पैरों पर खडी  हो गई अनपढ़ व्यक्ति दूसरों पर आधारित रहता है पढ़ी लिखी लड़की घरवालों का पूरा सहयोग कर सकती है वह पढ़ कर अन्य बच्चों को पढ़ा सकती है खेती किसानी कर रहे किसानों की  बेटी  बाकि कम सभाल रही है नकली खाद असली खाद एक्सपायरी दवा गलत दवा आदि देख रही है बुखार आदि देख लेती है शिक्षा प्राप्त कर ऊँचे पदों पर पहुँच कर सुद्रढ़ समाज बनाने मैं सहयोग कर रही है कोई  गलत कागजों पर दस्तखत तो नहीं करा रहा है हर प्रकार की शिक्षा  का  उदाहरण दिया जा सकता है पर अंग्रेजी पढ़े लिखे की पहचान है ये देश का अपमान है अब भी हम गुलामी की बात कर रहे  है मानसिक गुलामी का प्रतीक है यह विज्ञापन। 

जिन्न हाजिर हो

मोदीजी के पास जिन्न है जो चराग घिसा और जिन्न हाजिर कि भारत के भ्रष्टो को बदल दो कूड़ा फांकने वालों के साथ एक उठाने वाला चलेगा क्योंकि यहाँ की जनता तो इतनी जल्दी नहीं बदलेगी हाँ यदि सरे नेता बदल जाये तो शायद जिन्न कुछ कर पाए नहीतो वह भी वापस बोत्तल मैं घुस जायेगा कि जितना बदलूँगा नए सिरे से उनका घर भरना पड़ेगा  जवान चलने वाले तो चलाएंगे क्योंकि अबतक उसी का खाया है हाथपैर चलने का तोखाया नहीं है कला धन तो मोदीजी के आते ही गायब अब लेट रहेंगे  कहने मैं क्या जाता है 

और अरबों पानी मै

आज  समाचारपत्र मैं पढ़ा गणपति तैयार  किसी ने सजी १० फूट ऊँची प्रतिमा किसी ने पंद्रह फूट ऊँची १० लाख की प्रतिमा हर शहर मैं एक दुसरे को नीचा दिखाते गणपति को ऊँचा उठाते हैं  अरबों रूपये की प्रतिमाये बनती हैं क्या पैन  होता है रंग बिरंगे जहरीले रसायनों से गणपति चमकाए जाते हैं  उनकी जोर शोर से पूजा की जाती है  फिर उसे नदी समदर  मैं बहा आते हैं पानी को जहरीला बनाते हुए पहले यह केवल महाराष्ट्र का उत्सव था वह भी मिटटी की मूर्ती का जो घुलनशील होती थी व् चूने से ओउती होती थी जो पानी साफ ही करता था  एनी प्रदेशों मैं गणेश चतुर्थी मानते थे पर बहुत छोटी सी मिटटी की डली रखकर। लेकिन अब श्रद्धा  का नहीं ये अपनी सामाजिक प्रतिष्ठा दिखने का उत्सव हो गया है यह गणपति श्राद्ध हो गया है कैसे एक साधक अपने आराध्य को कह सकता है की अब घर से जाओ होगी पूजा
नेता भी जब विसर्जन करने वाली लाखों की मूर्ती के सामने हाथ जोड़ कर खडे होते हैं तब अपनी सोच पर दुःख होता है की मैं कैसे जो हथ्जोद रहा है उसे आराधक मान लूं वह तो वोट को हाथ जोड़ रहा है 

Monday, 5 September 2016

खाली हाथ


 भारतीय संस्कृति में जीवन में सोलह संस्कार मनाये जाते हैं अर्थात सोलह बार परिवारीजन उसको होने का एहसास और वे हैं उसके लिये अभिव्यक्त करते रहते हैं कि आप हमारे हैं । भरतीय संसक्ृति में उत्सव त्यौहार और संस्कार सबका नियमन केवल पारिवारिक रिश्तों को एक दूसरे को जोड़े रक्षने के लिये हैं और इसमें विवाह सर्वाघिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह जीवन का एक ऐसा मोड़ है जहॉं जिन्दगी बदल जाती है नये जीवन का आरम्भ होता है इसके लिये जन्मदाता भी अपने जीवन की संचित पूंजी न्यौछावर कर देते हैं
एक पुत्री का पिता धन जोड़ता है कि बेटी को अच्छे सुपात्र को सौंपे और सुखमय जीवन हो इसके निये अपनी निधि अर्पण करता है मॉं भी बेटी के लिये जोड़ जोछ़कर रखती है । अगर नये गहने न गड़वा सके तो अपने गहने देदेती है और अपने खाली होने पर भी उसे संतोष रहता है कि बेटी को दिये ।यदि बेटी का पिता समर्थ है जो करोड़ों रूपये  विवाह में खर्च करता है । शाही खर्च कि दुनिया देखे कि कैसा विवाह किया है । लड़के वाला भी अपना वैभव दिखाने के लिये खर्च करता हैलेकिन जब करोड़ों फूंक कर कुछ ही दिन में बेटी वापस आजाती है और एक वाक्य बोल देती है कि मैं नहीं रह सकती ।या तब भी वर पक्ष असन्तुष्ट हे और दो प्राणी नयी जिन्दगी के लिये एक पथ पर जाने की जगह दो अलग अलग पथ पर चल पढ़ते हैं तो सर्वाधिक नुकसान किसका होता है । 

Sunday, 4 September 2016

याद आता है

 याद आ जाती हैं माँ की कसकर दो चोटी बनाकर रिबन का फूल बनाना। तरह-तरह की फ्रिल वाली फ्रांके बनाना फिर पहना कर अपनी बिटिया को निहार कर प्यार करना और काला टीका लगाना, वो ममता भरी आँखें मेरा हर जगह पीछा करती हैं वह ममता मुझे झकझोर देती हैं जब कि भागती-दौड़ती सी माँए शर्टस और टॉप पहने बेटियों को  सुबह से शाम ट्यूशन पर भेजती अपेन माथे के पसीने के पोंछती रहती हैं । ममता के लिये समय है ही नहीं। उनका प्यार बर्थडे विश करते केक काटने में और गिफ्ट देने में झलकता है । प्यार एक कर्तव्य का वेष बदल कर आया है न कि तीज का त्यौहार मनाने के लिए बिटिया की हथेली को चूमती उस पर मेंहदी काढ़ती माँ । लंहगा-चुनरी पहना कर झूला आँगन में डालकर मॉं कजरी गाती तो कितना इठता इठला जाते। बार बार चिपका कर माँ गले में बांहे डाल लेती। पूरे सावन में आँगन के टट्टर पर पड़ा झूला हमारे अस्तित्व को स्वीकारता था। उस माँ की नरम-गरम गोद याद करते ।  पर कहाँ बन पाई वह माँ दो दो साल के बच्चों के मैंने भी भेज दिया था कान्वेंट में पढ़ने । जरा सा बड़ा होने पर चले गये बाहर फिर बाहर और बाहर, माँ होने का फर्ज निभाया है। दोनों सोये हुए बच्चों के माथे को चूमकर उस ममता को याद कर मेरा तकिया भीगने लगा है। 

Friday, 2 September 2016

सबको जीने का अधिकार होना चाहिए

क्या मानव होना सैक्स पर आधारित है त्र भारतीय संस्कृति में नर नारी किन्नर देव दनुज आदि मानवीय  आधार पर  विभाजित किये गये हैं या कर्म के आधार पर लेकिन किस आधार पर हम किन्नर या समलैंगिक आदि को समाज से बहिष्कृत करते हैं । उनमें मानवीयता नहीं है उन्हें छूत की बीमारी है उन्होंने दुष्कर्म किया है तब उन्हें बहिष्कृत करें हम निम्नस्तर तक गिरने वालों को आॅ।खें पर बिठाकर रखते हैं गरीबों के हक को खाने वालों को माननीय धोषित करते हैं और जो ईश्वरीय संरचना में कमी या कुछ व्यक्तिगत आदत वाले को बहिष्कृत करते हैं 
क्या सैक्स समाज का आधार है क्या किन्नर मानसिक विकलांग हैं जो समाज में रहने योग्य नहीं हैं ?तब दिन रात अखबारों में बलात्कार के केस आते हैं उन्हें हम सर्वोंच्च पद देदें और उनके पाॅंव पूजें कि आप जैसा कोई नहीं 
किन्नर समाज को क्यों हम केवल नाचने गाने के लिये मजबूर करते हैं उन्हें शिक्षा आदि देकर काम करने और समाज में उठने बैठने से रोका जाता है ।तब क्यों नहीं सभी कुंवारे साधु सन्यासी विधुर विधवा आदि को बहिष्कृत कर दिया जाता।किसी भी प्रकार के फार्म में सैक्स मेल या फीमेल के स्थान पर लिखा जाना चाहिये ‘क्या आप सैक्स करने में सक्षम है ं?’
अगर कोई भी मनुष्य मानसिक रूप् से ठीक है तो कोई भी वर्ण वर्ग जाति का हो उसे सामान्य जीवन जीने का अधिकार है आदर पूर्वक जीने का अधिकार 

Thursday, 1 September 2016

जी लेती हूँ

f चिप्स, कुरकुरे, पीज्जा, वर्गर के लिय माँ से जिद करते हैं तो मैं माँ से यादों में चिपक जाती हूँ दाल पीसती खाना बनाती माँ की पीठ पर लटकना फिर चुपचाप खटाई चीनी हथेली पर रख किसी कोने में छिप कर चाटना। वैसे दूसरी मंजिल का जीना इस सब कामों के लिये सुरक्षित था। कतारे, इमली, खट्टी-मीठी गोलियाँ यह छिपकर खाना हमारा मुख्य खाना होता। छुट्टियों में तो पेटों में जैसे भूत बैठ जाते जो भी घर में होता नहीं बचता डिब्बे के डिब्बे साफ होते। सारा दिन
धमा-चैकड़ी, बड़ा सा आंगन धूप हो या बारिश गरमी हो या सर्दी हम बच्चों के शोर से गुलजार रहता। जितनी महिलाएँ थी सब सब बच्चों की माँ थी कोई भी डांट जाता चिल्ला जाता खाने को पकड़ा जाता किसी भी का पल्ला खींच जो चाहते मांग लेते, याद आती है वो कई कई माँए और देखती हॅंू आज की माॅं बच्चे के मन पसंद खाने को भी लिये  उनके पीछे दौड़ती रहती हैं ।  

जी लेती हूँ

 जब कभी छोटे-छोेटे दोनों पोते-पोती ऊबकर अपने कम्प्यूटर केा बंद कर मोबाइल को एक तरफ फैक कर मेरे गले में बाहें डाल कर मेरे इधर-उधर लेट जाते हैं और कहते हैं दादी कोई कहानी सुनाओ ,जैसे अनेकों चाँद तारे मेरे सामने बैठ गये हों । पहुँच जाती हूँ अपनी दादी की दुनिया में, जब शाम झुकने लगती और जी लेती चाची, ताई, बुआ  और अपनी दादी की दुनिया। घर की महिलायें  रसोई के काम केा समाप्त कर मुँह हाथ धोने ,दिनभर के कामों की वजह से गंदलाए कपड़ों को बदलने अपने अपने कमरों में चली जाती । हम सब भाई-बहनें खाना खा चुकते दादाजी, बाबूजी, ताऊजी बड़े चाचा व्यापार आदि से वापस आयें तो घर की बहुएँ साफ सुथरी दिखें । थालियों में खाना खिलाते में सब वही बैठती थी और दादी केा घेर कर हम सब मुँह हथेली पर रख बैठ जाते,‘ दादी ! दादी कहानी सुनाओ।’ एक कहता दादी भूत वाली  तो एक दो सिकुड़ कर दादी से सट जाते कोई कहता परियों वाली और झट से सबके चेहरे पर जैसे चाँदनी नृत्य करने लगती।  ढिबरी की रोशनी ऊपर आले में जलती अपने घर को तो काला करती रहती पर हमारे चेहरों को रोशन करती रहती थी। अगर तिलस्मी कहानी होती या राक्षस की कहानी तो बस दादी की आवाज गूंजती और सब सिकुड़ते एक दूसरे से चिपके दादी के चेहरे को देखते रहते। वातावरण रहस्यमय और भी हो जाता यदि हवा से लौ काँप उठती कभी देर से लोटती चिड़िया चिचिया उठती तो सबके हाथ पैर सिकुड़ जाते पर नहीं दादी यही सुनाओ।
अपने पोते पोती को कहानी सुनाते चलती जाती हूँ उस रहस्यमय वातावरण में लेकिन उस जैसा वातावरण लाख कोशिश करने पर भी नहीं बना पाती। चंद लाइन बोल पाती हूँ कहानी का किरदार न अभी जंगल पहुँच पाया न पहाड़ी पर वह सो जाते पर मेरी दादी के किरदार न जाने कितने राक्षस कितने सिर वाले सर्पों को मारता जाता किर्रकिर्र करता दरवाजा खुलता। चीखते गि( निकलता। छोटे से छोटा बच्चा भी नहीं सोता था कथा खत्म होने लगती छोटे-छोटे बच्चे एक एक कर वही लुढ़कने लगते तो माँए दूध लेकर आ जाती । दूध के गिलास सबको देकर छोटे बच्चों को ले जाती और बड़े वहीं दादी के बड़े से तख्त पर लेटने लगते कोई भी ताई, चाची, माँ आती सबको चादर आदि ओढ़ा जाती और बच्चे सपनीली दुनिया में परियोँ के साथ नाचते तलवार लेकर राक्षसों का संहार करते जाते कहानी सुनाते-सुनाते में उस दादी को जीने लगती हूँ।