Monday, 26 October 2015

eq> ij n;k djks balku

eq> ij n;k djks balku

eafnj esa ?kaVs ctrs gSa
efLtn esa gks jgh vtku
pkjksa vksj iqdkjs gk gk
ns ns ns ns gs HkxokuA

dksbZZ dgrk y{eh ns nks
dksbZ dgrk vklu
dksbZ dgrk Nk;k ns nks
dksbZ d"V fuokjuA

vYykg Hkh esjs gh HkkbZ
ysfdu muesa gS prqjkbZ
dgka gS tUur dSlh tUur
nsrh ugha fn[kkbZ A

iSxEcj gSa ou esa vVds
bZlk :i esa Økl ij yVds
,sls esa cl n;k fn[kk,sa
dSlh tqxr fHkM+kbZA

ysfdu esjh eqf'dy dSlh
fn[krs gkFk vusdksa
vius lc gkFkksa ls nkrk
fQjik viuh Qsadks A

pank dks Hkh tk ?kj Hkstk
ftlls lc gks tk;s va/ksjk
czãk th us d`ik djh
vksj nsus cSBs igjk A

Mj tk;saxs 'ks"kukx ls
mldk iyax cuk;k
lkxj es tk fNidj ysVk
ij ekuq"k dks pSu u vk;k

tyk tyk dj fn;s vufxur
eq>dks ?ksj fy;k Fkk
lksus] dh esjh bPNk dks
mlus <sj fd;k Fkk


mB tkvks cl cgqr lks fy;s
ns nks ge dks nku
nks nks ns nks dh vkoktsa
QksM+ jgh Fkh dkuA

ysfdu blls T;knk eqf'dy
y{eh dks ysdj gS vkbZ
ns nks ns nks y{eh ns nks
djrs ns ;gh nqgkbZA

viuh iRuh dSls ns nw¡
dSlk rw uknku]
vius ?kj dks lwuk dj yw¡
lksp tjk balku A

n'kZu ls ;fn gks tk;s
rks ?kj ?kj y{eh tk;s
lkS lks rkys yxk yxk dj
djrs vUrZ/;ku A





jpuk }kjk
MkΠ'kf'k xks;y
lIr_f"k vikVZesaV
th 9 CykWd 3 lSDVj 16 ch
vkokl fodkl ;kstuk] Hkkjrh; efgyk cSad ds ikl

vkxjk 281010 eks 9319943446


मेरे घर की ऊँची दीवारों के बीच
 खिड़की से झांकता है जीवन
आ जाता है पंख फड़फड़ता पखेरू
 कोई  तितली आ बैठती है शीशे पर
 दिख जाता है बालक
मुस्कराने लगती है जिदगी
धूप का टुकड़ा आता  है अंदर
हवा दस्तक देती है खिडकी  पर
 तब कुछ पल को लहराता है जीवन
पेड़ की डाल पर गाता है पंछी
झूम उठती है डाली,
संग संग आता है जीवन। 

Tuesday, 6 October 2015

fisal gai to kya

किसी ने सच ही कहा हैः
जिव्हा ऐसी बाबरी, कर दे सरग पाताल,
आपन कह भीतर गई, जूती खात कपाल।
सच ही है जरा सी चीज है पर चिकनी ऐसी कि झट फिसल जाती है। कितना ही पकड़ो, पकड़ ही नहीं आती है। दिमाग में जो चल रहा होता है पट से आ जाता है। लाख चेहरे पर, जुबान पर पहरे लगाओं लाख गा गा कर मर जाओ, पर्दे में रहने दो, पर पर्दा है कि उठ ही जाता है। यह तो वैज्ञानिक सच है कि किसी की भी जीभ एक सी नहीं होती जैसे हाथ के निशान अलग अलग होते हैं जीभ भी अलग अलग होती है तब ही तो जुमले भी है कि अलग अलग निकलते रहते हैं।
संजय निरुपम की जीभ फिसल कर बोली स्मृति ईरानी को ‘ठुमके लगाने वाली’ ‘बड़ा दुःख है। स्मृति ईरानी के कई सीरियल देखे, पर  ठुमके लगाते नहीं देखा, पता नहीं लोग कहां कहां ठुमकेवालियों को देख आते हैं कैसे इतने अनुभव कर लेते है भाई लोग। छत्तीसगढ़ के भाजपा के वरिष्ठ सांसद सचेतक रमेश बैस आदिवासी आश्रम में दर्जन भर नाबालिग बच्चियों के साथ अनाचार की घटना पर 9 जनवरी को बोले, बराबरी या बड़ी उम्र की महिलाओं के साथ बलात्कार तो समझा जा सकता है